शनिवार, 24 नवंबर 2012

तू....

थोड़ी देर तक उसका नाम लेने से वह सपनों में चली आती है। देर तक मुझपर हंसकर वह मेरे पास बैठना चाहती है। जगह की कमी हम दोनों महसूस करते हैं... दुनिया कितनी बड़ी है... वह कहती है। मैं अपनी जगह् से भटक जाता हूँ। किंगफिशर सामने के पेड़ पर आकर मेरी ख़ाली बाल्कनी देखता रहता है। मैं देर तक बाल्कनी को भर देने की कोशिश करता हूँ..। हम एक दूसरे की ख़ाली जगह भर सकते थे... मैं तुम्हारे साथ बूढ़ा होना चाहता हूँ... मैंने अपनी गर्म सांसो में लपेटकर कई बार यह बात उसके पैरों के पास रखी थी। जीवन बहुत सरल था और हम फिर चालाक निकले....। हमने अपने बड़े होने के सबूत दिये.. खेल हमेशा बचकाना था। अब वह सपने में हैं... कहानी ख़ाली पड़ी है..। बाल्कनी में झूला लगाने की ज़िद्द जीवन मांगती है। और हम दोनों जीवन को चुन लेते हैं। सपने में वह कहती है.... और मैं सपनों में उसे जी लेता हूँ।

11 टिप्‍पणियां:

Himanshu Pandey ने कहा…

मोहक!
मुलायम-सी लेखनी!
आभार।

Pratibha Katiyar ने कहा…

Sapna...

अनाम ने कहा…

गर्म साँसों में लपेटकर पैरों के पास रखी गयी बातें, बिलकुल वैसे ही जैसे हाथों की अंजुली में समेटी गयी धुप - मायने शाम को समझ आते हैं! बेहद असरदार लिखा है सर, आभार!

bidisha ने कहा…

Manav hum har pal bahut chalak hi nikalte hai..itna zyada ki sapne chhut jate hai zindegi se...bas kavi kavi neend me woh chale aate hai...subah ka sapna sach hota hai yeh jan ne ke bad vi hum mante nahi hai....hum apni apni zindegi jite hai...apki yeh 'tu' bahut bahut sahi hai....

Shankar nath ने कहा…

शानदार

Abrokstudio ने कहा…

Hi Manav

We have seen your websites your poems are amazing but website design is not good and responsive.


We will design your website with latest design for completely free of cost if your interested then mail us we will happy to work with you.

Regards
Amardeep jha

ManchMaza ने कहा…

Very nice presentation Manav sir, I think these nice lines are very help to fight with depression. Impressive work you had on this blog, keep it up. Thanks

इंद्रजीत ने कहा…

बहुत अच्छा लेखन
http://bharatkidharti.com/patanjali-ayurved-coronil-launhced/

H.Tiwari ने कहा…

आपकी रचना बहुत सुन्दर लगी, बहुत ही शानदार रचना है आगे भी आपकी ऐसी ही रचनाओं का इन्तजार रहेगा।

हमारे लोकप्रिय कवियों को सुनने एवं साहित्य के अलग अलग विषयों से जुड़ी हुई रचनाओं छंद, कविता, व्यंग्य एवं कहानियो आदि को सुनने - देखने के लिए एवं अपनी रचनाओं को हमारे माध्यम से वीडियो पोस्ट

कर सकते है
= Dynamic Samvad TV

Manisha ने कहा…

Hi, This is Manisha Dubey, this is nice article it's really helpful for me thanks for submitting the post. please keep to up.

Live Current Affairs
Live Sarkari Naukri
How to get a Government Job easily
Facebook Video Download Online
Sarkari Yojana - PM Modi Yojana

Paresh Naik ने कहा…

Have you stopped writing poetry? If yes, you’re doing injustice to your self.

आप देख सकते हैं....

Related Posts with Thumbnails