सोमवार, 9 जून 2008

मानव...



मुझे हर बार मानव होने में कितना वक्त लगता है।


मैं हसंता हूँ....
जैसे कुछ छूट जाता है।


चुप होता हूँ...
तो कोई पास आकर फुसफुसाता रहता है।


जब तक बोलता हूँ...
कोई दिखता नहीं है।


चुप होते ही जंगली कुत्ते चारों ओर से धेर लेते है...
जैसे मैं कोई धायल जानवर हूँ।


और बाक़ी सब ताली बजाने और बजवाने के बीच के खेल हैं।


मेरे तुम्हारे, होने और नहीं होने में...
कोई एक आदमी था जो चल रहा था।
वो आज भी चलता है।
अभी... ठीक इसी वक्त...
वो मेरे बगल में खड़ा है।
नहीं वो मैं नहीं हूँ...।


मुझे तो मानव होने में बहुत वक्त लगता है।

3 टिप्‍पणियां:

Malay M. ने कहा…

In panktiyon main ...
kafi rehasyavaad hai ...
kuch samajh aata hai
par bahut sa uljha jaata hai ..
kabhi sochtaa hoon mere liye kathhin hai ...
phir sochtaa hoon vichaar se toh gajhin hai ... maheen hai ...
par in sabke beech main ...
kuch hai
jo pataa nahin kyon
man ko chhoo jaataa hai
aur main sochne lagtaa hoon ,
kab pahunch sakoongaa us dharaatal par
jahaan itna sunder samajh sakoon ...
nahin nahin
matr samajhna kafi nahi
itna sunder khud likh sakoon ...
shayaad us din adhikaar se kah sakoonga
haan , maine maanav kaul ko padhaa hai ...
tab tak
bas
kuch kathin hai , kuch maheen hai..

...ek dhrisht !

Dhruva Trivedy ने कहा…

Kya baat hai?
Dhrisht kyon?
Vinamrataa ki aseem seema?
Manav Kaul bhi manav hai...aap hi ki tarah!
Do manav evam do shailiyan kabhie bhi ek jaisi nahin hoti!
Aap swayam ek pratibha hain!!

vinayak sharma ने कहा…

'Peele scooter wala aadmi' play mein is kavita ki jhalak hai.

आप देख सकते हैं....

Related Posts with Thumbnails